Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

फ़ैसले का वक़्त

तू सारी मुश्किलों का
दिलेरी से सामना कर
दिल और दिमाग़ से
कोई भी फ़ैसला कर…
(१)
अपने किरदार को
एक मेयार देने के लिए
तू अपनी ज़िंदगी में
कुछ हादसे पैदा कर…
(२)
इश्क़ हो या इंकलाब
कोशिश से ही होता है
शेखचिल्ली की तरह
तू सिर्फ़ मत सोचा कर…
(३)
ज़ाती हो या समाजी
हर जलते हुए मूद्दे पर
तू वक़्त के रहते ही
बेबाकी से बोला कर…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#रोमांटिक #इंकलाबी #बागी
#विद्रोही #क्रांतिकारी #प्रेमी
#नौजवान #आशिक #शायर
#खतरा #Risk #youths #हक
#lover #Romantic #rebel

Language: Hindi
44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
झूठा प्यार।
झूठा प्यार।
Sonit Parjapati
हर पल
हर पल
Davina Amar Thakral
3508.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3508.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
निराला का मुक्त छंद
निराला का मुक्त छंद
Shweta Soni
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*Author प्रणय प्रभात*
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
इंसानो की इस भीड़ में
इंसानो की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
To my dear Window!!
To my dear Window!!
Rachana
शीर्षक - स्वप्न
शीर्षक - स्वप्न
Neeraj Agarwal
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
*नृप दशरथ चिंता में आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*नृप दशरथ चिंता में आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
"कश्मकश"
Dr. Kishan tandon kranti
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...