Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

“फ़िर से तुम्हारी याद आई”

फ़िर से आज तुम्हारी याद आई, देखा एक टूटे हुए दिल को उसको देख अपने बहते हुए अश्कों की याद आई, दर्द भरे उन लम्हों की याद आई, वो जागती हुई बेचैन कर देने वाली रातों की याद आई,
नींद में तुम्हें देखते हुए उन ख्वाबों की याद आई,
वो दर्द वो चेखें वो चुभती हुई सी काली यादों में तुम्हारी बातें याद आई,
आज एक बार फ़िर तुम्हारी याद आई..!
“लोहित टम्टा”

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
समुद्र इसलिए खारा क्योंकि वो हमेशा लहराता रहता है यदि वह शां
Rj Anand Prajapati
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
Buddha Prakash
2595.पूर्णिका
2595.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
Sampada
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ये तलाश सत्य की।
ये तलाश सत्य की।
Manisha Manjari
ऐसे दर्शन सदा मिले
ऐसे दर्शन सदा मिले
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
आप देखिएगा...
आप देखिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
💐 Prodigy Love-9💐
💐 Prodigy Love-9💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मंजिल एक है
मंजिल एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
माँ की याद आती है ?
माँ की याद आती है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
क्या ग़रीबी भी
क्या ग़रीबी भी
Dr fauzia Naseem shad
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
"साइंस ग्रुप के समान"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...