Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते

फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
बड़ी देर की यूँ ग़ज़ल गुन’गुनाते

रहा इश्क़ का खाता हरदम ही ख़ाली
कि हम चैक दिल का ये कैसे भुनाते

—महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अयोध्या
अयोध्या
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
11. *सत्य की खोज*
11. *सत्य की खोज*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
मैया तेरा लाडला ये हमको सताता है
मैया तेरा लाडला ये हमको सताता है
कृष्णकांत गुर्जर
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
*प्रणय प्रभात*
हुनर का मोल
हुनर का मोल
Dr. Kishan tandon kranti
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
दिल का हर रोम रोम धड़कता है,
दिल का हर रोम रोम धड़कता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
आत्म साध्य विचार
आत्म साध्य विचार
Neeraj Mishra " नीर "
मनांतर🙏
मनांतर🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अस्तित्व की तलाश में
अस्तित्व की तलाश में
पूर्वार्थ
तेरे बिना
तेरे बिना
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
3497.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3497.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*
*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
Loading...