Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 2 min read

फ़र्क

फर्क

आखिरकार पापा ने अपनी प्रॉमिस पूरी कर दी। उन्होंने अपने इकलौते बेटे अमन से प्रॉमिस किया था कि यदि वह अपनी कक्षा में फर्स्ट आएगा, तो उसे गर्मी की छुट्टियों में एक दिन ऑफिस लेकर जाएँगे।
रिजल्ट घोषित होने के दूसरे ही दिन वह अपने पापा के साथ ऑफिस पहुँच गया। वहाँ वह अपने पापा के कैबिन की हर छोटी-बड़ी चीज को बहुत ही गौर से देख रहा था, जो समझ में नहीं आता या नया लगता, अपने पापा से पूछ लेता।
लगभग हर घंटा-डेढ़ घंटा में उसके पापा अलग-अलग लोगों के साथ ऑफिस के सामने स्थित होटल में चाय पीने जाते। अमन भी उनके साथ-साथ जाता। वहाँ उसे भी अपनी पसंद की टॉफी, चिप्स वगैरह मिल जाते। अमन ने गौर किया कि वे जब भी बाहर निकलते, पंखा-एसी को चालू ही छोड़ जाते, जबकि घर में पापा दो मिनट के लिए भी रूम छोड़ते हैं तो बिजली की खपत कम करने और मशीनों को गर्म होने से बचाने के लिए सभी स्वीच ऑफ कर देते हैं।
जब तीसरी बार वे ऐसे ही निकले, तो अमन से रहा नहीं गया। उसने कहा, “पापा, स्वीच ऑफ कर दें क्या ?”
पापा ने कहा, “रहने दो बेटा। चलने दो। बंद करने से जब हम यहाँ लौटेंगे, तो कैबिन हीट मिलेगा।”
अमन ने आश्चर्य से कहा, “पर पापा, घर में तो आप…”
पापा ने समझाया, “बेटा घर, घर होता है और ऑफिस, ऑफिस। दोनों में बहुत फर्क होता है।”
अमन को घर और ऑफिस के बीच का फर्क स्पष्ट रूप से दिख रहा था।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
439 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
Phool gufran
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*गाते गाथा राम की, मन में भर आह्लाद (कुंडलिया)*
*गाते गाथा राम की, मन में भर आह्लाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जन्मदिन मुबारक तुम्हें लाड़ली
जन्मदिन मुबारक तुम्हें लाड़ली
gurudeenverma198
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
शेखर सिंह
■ चाहें जब...
■ चाहें जब...
*Author प्रणय प्रभात*
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
Ravi Ghayal
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
सहचार्य संभूत रस = किसी के साथ रहते रहते आपको उनसे प्रेम हो
राज वीर शर्मा
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Lines of day
Lines of day
Sampada
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
जय हो माई।
जय हो माई।
Rj Anand Prajapati
Loading...