Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 5 min read

फस्ट किस ऑफ माई लाइफ

“उसे जब भीगा भीगा सा फिल हुआ तो ,उनसे चौक कर आंखे खोली….उसने देखा कि विंडो से बारिश की बूंदों उसके चहरे पर पड़ रही है।वह अंदर ही अंदर मुस्कुराई और बीते पलों में खो गई”।

रात के 1बज चुके थे गर्ल्स हॉस्टल की सारी गर्ल सो चुकी थी।वह अकेले बैठ कर बाहर के दृश्य को देख रही थी। बारिश का दिन ,ठंडी ठंडी हवाएं चल रही थी।अचानक कुछ गिरने की आवाज अाई ,वह भगति हुई बाथरूम के साइड चली गई।

“कौन है वहां” “रिया “ने पूछा ,
“तुम्हारा हमदर्द, माई लव” करण ने रोमांटिक होते हुए कहा।
रिया के चहरे पर प्यारी सी स्माइल छा गई।

“लेकिन इतनी रात को तुम यहां क्यों आए,कोई खाश बात है क्या?..रिया ने पूछा ,
“है !खाश तो है ,पर बाते नहीं “तुम”
*आज का मौसम ही कुछ यूं था कि मैं तुम्हारे पास घिचा चला आया।
“ओ ऐसा क्या ” जी हां,
यह कहते हुए करण ने रिया को अनी ओर घीचा और उसे अपने बाहों में कस लिया।

“कारण छोड़ो कोई देख लेगा” रिया ने आश्चर्य होते हुए कहा,
“तो क्या होगा हम किसी से डरते थोड़ी है।
“कोई देखेगी तो पता नहीं क्या कहेगी ….
“वही कहेगी जो देखेगी, …..करण ने उसे घूरते हुए कहा,
तुम्हे शर्म नहीं आती ,?…. रिया ने थोड़ा नाराजगी दिखाते हुए कहा ।”
“जिसने किया शर्म उसका फूटा कर्म ”
करण मुस्कुराते हुए कहा!

करण उसे” किस्स” करने ही वाला था ,कि रिया दोनों हाथों से अपना चेहरा ढक ली,
“करण प्लीज जाओ, ना फिर कभी”
“नहीं बाबा : तुम बहुत बार यह कह चुकी हो, पर मै आज नहीं मानने वाला”

“रिया, आे रिया कहां हो तुम, पिंकी ने आवाज लगाते हुआ कहा”
“वैट _ वैट”, आई एम कमिंग ,रिया ने थोड़ा दबी आवाज में कहा …..
लो कर दी तुम्हारा विश पूरा उसने करण को” चीक किस्स” करते हुआ कहा,
“ओके बाय माई लव, मिस यू ”
करण ने जाते हुए कहा”।

रिया अपने कमरे में आई, और बहाने बनाते हुआ रूममेट को सोने को कहीं…..पहली बार उसने किसी को “किस्स” किया था !यह दिन उसे हमेशा याद रहेगा ।यह सोचकर वह मन ही मन मुस्कुरा रही थी।
“वह तन मन,दिल से करण को अपने ,सपनों का राजकुमार मान चुकी थी”।पर वह कुछ बात से चिंतित थी ,कि पता नहीं उनके परिवार मानेंगे ,या नहीं ,अभी तो उसकी पढ़ाई भी पूरी नहीं हुई थी।उसे नींद भी नहीं आ रही थी।फिर उसने सोचा कि यह हमारे कॉलेज का लास्ट ईयर है! क्यों ना ,हम सब मिलकर कुछ ऐसा के, ताकि यह साल हमे हमेशा याद रहे।

उसने पिंकी को जगाया , और कहा “चलो हम सब मिलकर “इनलॉय” करे कॉलेज लाइफ को “मीमोरीज” बनाए”।
यह सुनते ही उसके कमरे की सारी गर्ल्स जग गई ,और दूसरे गर्ल्स को भी जगाने के लिए उनके रूम में चली गई।

फिर क्या था सब एक साथ मिलकर 4थ फ्लोर पर चड़ गई ।और गाना गाने लगी “ये मौसम की बारिश ,ये बारिश कि पानी ,ये पानी की बूंदे तुझे ही तो ढूंढे “।

गाना गाते गाते सब एक दूसरे को किसी ना किसी लड़के के नाम से चिढ़ा रही थीं।वह बारिश की झिलमिल झिलमिल बूंदे जब उनके पड़ती थी तो वह ऐसे खुश हो जाती थी “मानो किसी कैदी को आजाद कर दिया गया हो”।

सोनी ने कहा: “रियली यार मज़ा आ गया”
रूपा ने कहा:यूं राइट यार,
उन दोनों कि बात सुनकर रिया को भी रहा नहीं गया, और उसने भी ऊंचे आवाज में कहा “वी विल नेवर फॉरगेट टुडे ‘ स डे “।

फिर आचनक तान्या ने कहा “एक मैडम को देखा तो ऐसा लगा जैसे कोयला की खान ,जैसे चुडेलों की सरदार जैसे पथलों का हार,जैसे भूतों का मकान” उसे यह गाता देख सारी गर्ल्स एक साथ हसने लगी।बात ऐसा था कि उसके कॉलेज में एक मैडम थी ,जो की बड़ी गुस्से वाली थी ।छोटी छोटी बातों पर सबको सुनते रहती थी।यह सारी गर्ल्स उस मैडम का ही मजाक बना रही थीं।

देर रात मस्ती करने के बाद निशा ने कहा “ओय लिस्टें “चलो बहुत एन्जॉय की’ अब अपने अपने रूम चलो अगर और जादा भिंगी तो “फीवर” हो जाएगा ।और फिर क्लास “ऑफ” करना पड़ेगा फिर दूसरे दिन तो सविता मैडम हमारी वॉट लगा के ही रहेगी इसलिए कह रहीं हूं चलो। फिर रिया ने मस्ती के मूड में कहा “डोंट थिंक अबाउट हर शे इस फूल वूमेन “।

रात काफी हो चुकी थी, फिर सबने सोचा अब नीचे जाना चाहिए।सब अपने अपने कमरे में आ गई और एक दूसरे को सताने लगी ।एक दूसरे के घर से जो भी आया था ,आपस में बांट बांट कर खाने लगी ।रात के लगभग 4बज चुके थे सब अपने अपने कमरे में सोने चली गई ,सुबह उन्हें क्लास जो जाना था।

रिया को अभी भी नींद नहीं आ रही थी वह अब भी वही सोच मै थी कि आज का दिन कितना खास है उसके लाइफ का “फर्स्ट किस्स” और फिर साथ में “मानसून एन्जॉय”यह सोचते सोचते कब ,उसे नींद आ गया पता ही नहीं चला।

इस सोच मै खोई रिया मुस्कुरा रही थी तभी अचानक कारण की नींद खुल गई और उनसे रिया से कहा: किस सोच मै डूबी हो बेगम साहिबा! “कुछ नहीं “,पहले तो वह मना कर दी फिर उससे रहा नहीं गया तो उसने कहा दिया :अरे यार कॉलेज टाइम याद आ गया था।

“कौन सा दिन क्या तुम उस दिन को याद कर रही हो जब तुमने मुझे फर्स्ट किस्स किया था”।

है, पर तुम्हे कैसे पता?रिया ने पूछा
कॉमन सेंस बेबी! किसी को कुछ याद हो या ,ना हो पर उसके “लाइफ का फर्स्ट किस्स हमेशा याद रहता है”।
फिर उसने कहा “क्यों ना हम आज उसी पल में खो जाए” ।करण थोड़ा रोमांटिक होते हुए कहा। और फिर वह रिया के करीब जा बैठा ।और उसे तंग करने लगा।

चलो छोड़ देते है, हम उनको एक दूसरे के साथ। और अब अपनी यादों की बात करते है ।सबके जीवन में एक ऐसा पल होता है, जिसे वह कभी भूल ना पाए ।चाहे वह स्कूल लाइफ का हो या कॉलेज लाइफ का हो। होनी भी चाहिए, ऐसा पल जिसे हम दुखे के समय याद करे और खुश हो जाए।

समाप्त ******

शिवा गौरी तिवारी
भागलपुर बिहार

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोई विरला ही बुद्ध बनता है
कोई विरला ही बुद्ध बनता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
डिप्रेशन में आकर अपने जीवन में हार मानने वाले को एक बार इस प
डिप्रेशन में आकर अपने जीवन में हार मानने वाले को एक बार इस प
पूर्वार्थ
यादों में
यादों में
Shweta Soni
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
ज़िंदगी को इस तरह
ज़िंदगी को इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
#आलेख-
#आलेख-
*प्रणय प्रभात*
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"सबसे पहले"
Dr. Kishan tandon kranti
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
Sarfaraz Ahmed Aasee
राज
राज
Neeraj Agarwal
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
मतदान
मतदान
Anil chobisa
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
Swami Ganganiya
विदेश मे पैसा कमा कर पंजाब और केरल पहले नंबर पर विराजमान हैं
विदेश मे पैसा कमा कर पंजाब और केरल पहले नंबर पर विराजमान हैं
शेखर सिंह
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
Loading...