Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

फल का राजा जानिए , मीठा – मीठा आम(कुंडलिया)

फल का राजा जानिए , मीठा – मीठा आम(कुंडलिया)
—————————————————–
फल का राजा जानिए , मीठा – मीठा आम
लँगड़ा चौसा दशहरी , कलमी इनके नाम
कलमी इनके नाम , काट कर फाँकें खाते
पतले रस के आम , चूसनी हैं कहलाते
कहते रवि कविराय , दूध सँग खाओ ताजा
जामुन का यह मित्र ,स्वास्थ्यप्रद फल का राजा
■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ Rãthí
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
व्यक्तित्व और व्यवहार हमारी धरोहर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
"ओस की बूंद"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
2451.पूर्णिका
2451.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
DrLakshman Jha Parimal
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
■ बे-मन की बात।।
■ बे-मन की बात।।
*Author प्रणय प्रभात*
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
कलम
कलम
शायर देव मेहरानियां
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
***
*** " नाविक ले पतवार....! " ***
VEDANTA PATEL
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नया साल
नया साल
Arvina
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
पूर्वार्थ
Loading...