Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से

फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
पूंछती हैं कलियां भीगी बहार से
क्यूं बदन तर-बतर है अश्कों की धार से
क्या तुम भी आ रहे हो रफी साहब की मजार से
M.T.”Ayan”

606 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*
*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
#दिवस_विशेष-
#दिवस_विशेष-
*Author प्रणय प्रभात*
पृष्ठों पर बांँध से
पृष्ठों पर बांँध से
Neelam Sharma
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"आग और पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
Sahil Ahmad
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
Tum makhmal me palte ho ,
Tum makhmal me palte ho ,
Sakshi Tripathi
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...