Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2022 · 1 min read

फरिश्ता से

दुआ कर लो कबूल
दो ना ये दर्द का शूल
मुद्दतों से पड़ी हूं।
अब तक अपने से ही लड़ी हूं।
गुनाहगार ना होकर भी सजा पाते हैं।
इश्क की दास्तान हमेशा नया पाते है।
मेरे दिल की ख्वाहिश सुनने वाले।
अपनी रज़ा देख पाते,
मेरे तकदीर में क्या है?
तु तो फरिश्ता है।
तेरा -मेरा ही गहरा रिश्ता है ।
कैसे कहूं तुझको
तेरे अब्र ( घटा ) से मुझकों राहत मिलती हैं।
मिलती है सच्चाई
ए दुनियाँदारी है।
खाक यहां कि हर सौगात हैं,
बस मिल जाती है जिसे इश्क तेरा
वो दुनिया में भी नायाब हैं।
– डॉ. सीमा कुमारी, बिहार, भागलपुर, दिनांक-29-4-022की मौलिक एवं स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित कर रही हूं।

Language: Hindi
2 Likes · 294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
संविधान शिल्पी बाबा साहब शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
शक्कर की माटी
शक्कर की माटी
विजय कुमार नामदेव
🔥आँखें🔥
🔥आँखें🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
💐प्रेम कौतुक-441💐
💐प्रेम कौतुक-441💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🙏
🙏
Neelam Sharma
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
Lines of day
Lines of day
Sampada
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Sakshi Tripathi
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
प्रेम निवेश है ❤️
प्रेम निवेश है ❤️
Rohit yadav
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
अपनी सरहदें जानते है आसमां और जमीन...!
Aarti sirsat
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
औकात
औकात
साहित्य गौरव
"तोल के बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...