Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*

छोटी थी जब
स्वेटर बुनते माँ ने टोका था मुझको-
‘सारा स्वेटर उधड़ न जाये
ध्यान तो दे कहीं गिर न जाये
बुनते-बुनते ही यह फंदा
छोटी-सी बुद्धि ने तब से
फंदा स्वेटर में ही जाना|

और टोकती थी माँ अक्सर-
‘धीरे-धीरे खाया कर|
छोटे-छोटे ग्रास बनाकर
ख़ुद भी कभी खिलाती थी,
‘पानी भोजन बीच न पीना,
लग जाएगा गले में फंदा
कह-कह कर ध्यान दिलाती थी|

बदल गए संदर्भ सभी
अब सहज समझ न आता है-
क्यों अन्नदाता भारत का
फंदे को अपनाता है,
क्यों बिलखते बच्चे भूखे?
क्यों बिन ब्याही बेटी छोड़
जीवन से हार जाता है?

अचरज बहुत होता है जब-
बिटिया जो जान से प्यारी है,
बेटा जो आँख का तारा है,
जाने क्यों तब
बन जाता है गले का हार ये फंदा
खाप छीन लेती है क्यों
झूठी इज्ज़त की ख़ातिर बच्चों से ही उनका प्यार?

फंदा-फंदा कह कर
अब तो बच्चे शादी नहीं रचाते हैं,
रख परम्पराओं को ताक पर
जाने कितने लड़का-लड़की
बिन ब्याहे ही रह जाते हैं|
शादी लगती गले का फंदा,
बिन शादी रास रचाते हैं|

बूँद शब्द है, अर्थ है सागर
जाकी जैसी बुद्धि ठहरी
वैसा ही तो बाँचे है|
फंदा क्यों समझे हम इसको
धैर्य से सब सुलझाते हैं |

जीवन बहे सरिता-सी धार
पथ निष्कंटक, प्रेम-बाहर
फंदा-फंदा स्वेटर बुन ले
बाक़ी सब है व्यर्थ-विकार|

Language: Hindi
8 Likes · 2 Comments · 1330 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Poonam Matia
View all
You may also like:
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
जो गर्मी शीत वर्षा में भी सातों दिन कमाता था।
सत्य कुमार प्रेमी
"बात पते की"
Dr. Kishan tandon kranti
खाक पाकिस्तान!
खाक पाकिस्तान!
Saransh Singh 'Priyam'
जब दिल टूटता है
जब दिल टूटता है
VINOD CHAUHAN
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
बेरोजगारी के धरातल पर
बेरोजगारी के धरातल पर
Rahul Singh
🙅लघुकथा/दम्भ🙅
🙅लघुकथा/दम्भ🙅
*प्रणय प्रभात*
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
-- मैं --
-- मैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
पुष्प
पुष्प
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
फितरत
फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
जलजला, जलजला, जलजला आयेगा
जलजला, जलजला, जलजला आयेगा
gurudeenverma198
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
3248.*पूर्णिका*
3248.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
Satish Srijan
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
काल  अटल संसार में,
काल अटल संसार में,
sushil sarna
अपनी तस्वीर
अपनी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...