Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

प्रेरणा और पराक्रम

जिंदगी संघर्षों का पथ
जिंदगी परीक्षाओं का प्रतिपल
तमस में उजियार करता जीवन
ज्वाला मशाल।।

निराशा में भी खोज लेता
आशा विश्वास उद्देश्य पथ
ना हारता न थकता नित्य नई
ऊर्जा उत्साह का पराक्रम।।

समय को साथ चलने को
कर दे लाचार अपनी पल
प्रहर का इतिहास लिखने
भर दे विचार।।

जीवब मृत्यु के जंजाल से
अलग गंदुम की तरह जलता
पल भर में ही युग को स्वयं का कारा देता आभास ।।

युग में नव चेतना का
संचार करता उत्कर्ष के
निष्कर्ष का उद्घोष करता
मानव मानवता करता उद्धार।।

नीति नियत को बदलने का
संग्राम लड़ता युग पुरुषार्थ का
नव अध्याय लिखता साहस शौर्य का शंख नादपरम शक्ति सत्ता का जीवन
करता सत्कार ।।

हुंकार से युग हलचल
युग हुंकार की प्रतिध्वनि
सार्थक्ता स्वीकार करता।।

युग गूंज पुकार ललकार
जीवन मौलिक मूल्यों की
चिंतन शीलता का चैतन्य।।

प्रलय में भी नव सृष्टि का
संकल्प विपात्ति परिस्थिति
विपरीत में संपूर्णता की
ऊर्जा उत्साह ।।

पराजय को विजय के लिए
लाकर करने वाला वीर
धन्य धीर गंभीर की नही
कोई उम्र ।।

ओजश्वी तेजश्वी
दृढ़ इच्छा शक्ति मानव ही
युग प्रेरक प्रेरणा दिग्दर्शक
पथ प्रदर्शक ।।

कायर कमजोर नही
हताश निराश नही
यंत्र तंत्र सर्वत्र प्रेरणा
प्रेरक प्रसंग ही युग
जीवन का योग्य अंग।।

नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बाढ़ का आतंक
बाढ़ का आतंक
surenderpal vaidya
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
The_dk_poetry
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
Today i am thinker
Today i am thinker
Ms.Ankit Halke jha
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
Ram Krishan Rastogi
मन उसको ही पूजता, उसको ही नित ध्याय।
मन उसको ही पूजता, उसको ही नित ध्याय।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अन्हारक दीप
अन्हारक दीप
Acharya Rama Nand Mandal
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मौसम आया फाग का,
मौसम आया फाग का,
sushil sarna
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
दुष्यन्त 'बाबा'
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
Shweta Soni
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
gurudeenverma198
Loading...