Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

प्रेम

प्रेम एक लगन है ,
इसमें रहते प्रेमी मगन हैं ,

यह हृदय से हृदय का स्पंदन है ,
यह बुझाए ना बुझे वह अगन है ,

यह एक सतत चिंतन है ,
यह एक गूढ़ मंथन है ,

यह एक भावातिरेक समर्पण है ,
यह दो आत्माओं का परस्पर मिलन है ,

जिसे ईश्वर भी विच्छिन्न न कर पाएं ,
ऐसा जन्म जन्मांतर का अटूट बंधन है।

Language: Hindi
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
"ഓണാശംസകളും ആശംസകളും"
DrLakshman Jha Parimal
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
जिन्दगी ....
जिन्दगी ....
sushil sarna
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
Buddha Prakash
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
Akash Agam
पाँच सितारा, डूबा तारा
पाँच सितारा, डूबा तारा
Manju Singh
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
"लबालब समन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
अलबेला अब्र
अलबेला अब्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*जाऍंगे प्रभु राम के, दर्शन करने धाम (कुंडलिया)*
*जाऍंगे प्रभु राम के, दर्शन करने धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
दुष्यन्त 'बाबा'
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
■ धिक्कार...
■ धिक्कार...
*Author प्रणय प्रभात*
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...