Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी

प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
इस जीवन जगत् का सबसे महंगा सुख है क्यों
हम इंसानियत खो रहे हैं बस

2 Likes · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कश्मीरी पण्डितों की रक्षा में कुर्बान हुए गुरु तेगबहादुर
कवि रमेशराज
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
'अशांत' शेखर
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
हार स्वीकार कर
हार स्वीकार कर
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
💐अज्ञात के प्रति-117💐
💐अज्ञात के प्रति-117💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
मन से भी तेज ( 3 of 25)
मन से भी तेज ( 3 of 25)
Kshma Urmila
मानव  इनको हम कहें,
मानव इनको हम कहें,
sushil sarna
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
#पर्व_का_संदेश-
#पर्व_का_संदेश-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...