Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

प्रेम जब निर्मल होता है,

प्रेम जब निर्मल होता है,
निर्दोष होता है,
निराकार होता है;
जब हम प्रेम में सिर्फ देते हैं,
माँगते नहीं;
तब प्रेम दान होता है—
प्रेम सम्राट समान होता है,
भिखारी नहीं—
किसी ने हमारा प्रेम स्वीकार किया
हम आनन्दित होते हैं

हिमांशु Kulshrestha

134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
मकान जले तो बीमा ले सकते हैं,
मकान जले तो बीमा ले सकते हैं,
पूर्वार्थ
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
वक़्त का समय
वक़्त का समय
भरत कुमार सोलंकी
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
नज़रें!
नज़रें!
कविता झा ‘गीत’
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
मन मयूर
मन मयूर
नवीन जोशी 'नवल'
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
हम उफ ना करेंगे।
हम उफ ना करेंगे।
Taj Mohammad
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
पेड़ पौधे से लगाव
पेड़ पौधे से लगाव
शेखर सिंह
■ सनातन विचार...
■ सनातन विचार...
*प्रणय प्रभात*
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*छॉंव की बयार (गजल संग्रह)* *सम्पादक, डॉ मनमोहन शुक्ल व्यथित
*छॉंव की बयार (गजल संग्रह)* *सम्पादक, डॉ मनमोहन शुक्ल व्यथित
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
"वो जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
summer as festival*
summer as festival*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
Loading...