Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा

उस दुकान पर वह
आती जाती है रोज ब रोज कई कई बार
तकरीबन पचीस घरों को लांघ
टंग गया कहीं है उसका मन
जबकि रास्ते में तीनेक दुकानों को
छोड़ आती है वह
अपने घर के पास ही

अपने मनप्रीत के घर की
गली से गुजरते वक्त
उसके लब गुनगुनाने लगते हैं यकायक
कोई गीत-फिल्मी या कि लोक
जो उसके आसपास आ
मंडराने की पक्की सूचना होती है
और मिलने का न्योता भी
लड़के के लिए

इंतजार आकुल लड़का निकल आता है
फौरन घर से बाहर और
सड़क की राह दौड़ जाती है
उसकी नई उगी निगाहें बरबस
और लख लेती हैं अपने अभीष्ट को

दुकान से लौटती नवचाल लड़की का नवोढ़ा दुपट्टा
बार बार सरकता संभलता है
सीने की उभार से लग
जैसे किसी की खातिर

नजदीक होती जाती है
लड़के से लड़की
और गली मानुष-सून पाने पर
दोनों की
कुछ मूक कुछ मुखसुख कुछ देहछू बातें
हो जाती हैं चट चुटकी में
किसी के द्वारा यह गुरु चोरी
देखे पकड़े जाने के भय बीच
और लड़की के लौटते डग बढ़ जाते हैं झट
बेमन ही अपने घर की ओर

देखें
दो युवा दिलों की
जगभीत बीच जारी यह नेहबंध
क्या महज कच्ची कसती देह का
अंखुआता आकर्षण है
या आगे बढ़ सच्ची लगी की ओर
पेंगें बढ़ते जाने का विहंसता दर्पण है ।

[रचना वर्ष सन 2008]

Language: Hindi
332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2838.*पूर्णिका*
2838.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
*महान आध्यात्मिक विभूति मौलाना यूसुफ इस्लाही से दो मुलाकातें*
*महान आध्यात्मिक विभूति मौलाना यूसुफ इस्लाही से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
Jay Dewangan
😢😢
😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
डॉक्टर्स
डॉक्टर्स
Neeraj Agarwal
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Legal Quote
Legal Quote
GOVIND UIKEY
दस्तक बनकर आ जाओ
दस्तक बनकर आ जाओ
Satish Srijan
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...