Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

प्रेम की नाव

वर्तुल सी दुनिया, और शून्य सा भाव,
चल पड़ी जिंदगी, वह भी नंगे पांव,
शब्द है अनाड़ी और अर्थ के हैं विकल्प,
चुनते सब शहर हैं, कहते हैं गांव,
ठहरा हुआ है चिंतन और चिंता के रूप कई,
खुद के शतरंज पर जीत रहे दांव,
मर गई है आत्मा, सो गया ज़मीर,
छलावे में जी रहे प्रेम की है नाव।

Language: Hindi
2 Likes · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
Mohan Pandey
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
Atul "Krishn"
* रेत समंदर के...! *
* रेत समंदर के...! *
VEDANTA PATEL
मत भूल खुद को!
मत भूल खुद को!
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
शेखर सिंह
संवेदना प्रकृति का आधार
संवेदना प्रकृति का आधार
Ritu Asooja
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
जा रहा है
जा रहा है
Mahendra Narayan
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
विचार और विचारधारा
विचार और विचारधारा
Shivkumar Bilagrami
*टमाटर (बाल कविता)*
*टमाटर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
■ मूर्खतापूर्ण कृत्य...।।
*प्रणय प्रभात*
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
वक़्त होता
वक़्त होता
Dr fauzia Naseem shad
Loading...