Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

प्रेम और आदर

प्रेम और आदर मनुष्य को अपने ओर खीचने वाला चुम्बक है
उपहास और अनादर मनुष्य को अपने से दूर करने वाला विपरीत चुम्बक है

1 Like · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ताकत
ताकत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
शतरंज
शतरंज
भवेश
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
#धोती (मैथिली हाइकु)
#धोती (मैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
2261.
2261.
Dr.Khedu Bharti
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
Monika Verma
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
_सुलेखा.
💐प्रेम कौतुक-407💐
💐प्रेम कौतुक-407💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
*एमआरपी (कहानी)*
*एमआरपी (कहानी)*
Ravi Prakash
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
sushil sarna
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...