Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

प्रेम उत्सव

नभ मंडल मे अप्सराएँ
मचा रहीं है शोर ,
मही पर प्रेम उत्सव
मना रहे है लोग ।
बन उपवन मे मदहोशी ,
मन वीणा पर पवन की ताल ।
यह प्रेम उत्सव की चाल ।।
मधु

Language: Hindi
592 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
जब बात नई ज़िंदगी की करते हैं,
जब बात नई ज़िंदगी की करते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
Ravi Betulwala
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
मज़दूर दिवस विशेष
मज़दूर दिवस विशेष
Sonam Puneet Dubey
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
"रानी वेलु नचियार"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
"रातरानी"
Ekta chitrangini
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
शेखर सिंह
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र"
Dr Meenu Poonia
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
गुजार दिया जो वक्त
गुजार दिया जो वक्त
Sangeeta Beniwal
Loading...