Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

प्रीत

प्रीत

नज़रों ने नज़रों से नजरें मिलायीं
प्यार मुस्कराया और प्रीत मुस्कराई
प्यार के तराने जगे गीत गुनगुनाने लगे
फिर मिलन की ऋतू आयी भागी तन्हाई

दिल से फिर दिल का करार होने लगा
खुद ही फिर खुद से क्यों प्यार होने लगा
नज़रों ने नज़रों से नजरें मिलायीं
प्यार मुस्कराया और प्रीत मुस्कराई

प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: गीत
340 Views
You may also like:
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
दिवाली शुभ होवे
Vindhya Prakash Mishra
ऐसे क्यों मुझे तड़पाते हो
Ram Krishan Rastogi
✍️स्त्रोत✍️
'अशांत' शेखर
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जियो उनके लिए/JEEYO unke liye
Shivraj Anand
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
फ़साने तेरे-मेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
दीपावली पर ऐसा भी होता है
gurudeenverma198
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
जिंदा है।
Taj Mohammad
■■★परमात्मनः शक्ति:★■■
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ की वंदना
Buddha Prakash
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन के गाँव
Anamika Singh
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
*"पिता"*
Shashi kala vyas
मिली सफलता
श्री रमण 'श्रीपद्'
बीती यादें
Kaur Surinder
दीपोत्सव की शुभकामनाएं
Saraswati Bajpai
पुराना है
AJAY PRASAD
Loading...