Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

प्रीत

प्रीत

नज़रों ने नज़रों से नजरें मिलायीं
प्यार मुस्कराया और प्रीत मुस्कराई
प्यार के तराने जगे गीत गुनगुनाने लगे
फिर मिलन की ऋतू आयी भागी तन्हाई

दिल से फिर दिल का करार होने लगा
खुद ही फिर खुद से क्यों प्यार होने लगा
नज़रों ने नज़रों से नजरें मिलायीं
प्यार मुस्कराया और प्रीत मुस्कराई

प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: गीत
476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
नववर्ष का नव उल्लास
नववर्ष का नव उल्लास
Lovi Mishra
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*प्रणय प्रभात*
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
उसे भुलाने के सभी,
उसे भुलाने के सभी,
sushil sarna
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
Ravi Prakash
Destiny
Destiny
Sukoon
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मातृस्वरूपा प्रकृति
मातृस्वरूपा प्रकृति
ऋचा पाठक पंत
कोरे कागज़ पर
कोरे कागज़ पर
हिमांशु Kulshrestha
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
मां ब्रह्मचारिणी
मां ब्रह्मचारिणी
Mukesh Kumar Sonkar
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"फेसबूक के मूक दोस्त"
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
जब भी
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
नुकसान हो या मुनाफा हो
नुकसान हो या मुनाफा हो
Manoj Mahato
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
वो जो कहते है पढ़ना सबसे आसान काम है
वो जो कहते है पढ़ना सबसे आसान काम है
पूर्वार्थ
Loading...