Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 2 min read

प्रिये

चाहत की मंजिल
जीवन की सौगात प्रिये
तेरे ही मिल जाने से
हो जीवन उद्धार प्रिये।।

स्वर संगीत
दिल धड़कन प्राण प्रिये
करम किस्मत की राह प्रिये
तेरे ही मिल जाने से हो जीवन
उद्धार प्रिये।।

बचपन की शरारत साथ प्रिये
बारिश का पानी कागज की कश्ती हद हस्ती मौज मौसिकी नाज़ प्रिये।।
तेरे संग लम्हा लम्हा जन्नत की शान प्रिये तेरे ही मिल जाने से हो
जीवन उद्धार प्रिये।।

नज़रों दूर चली जाती
जीवन हो जाता वीरान प्रिये
अंधेरों में खो जाता जीवन
भटकता इधर उधर ।।

मकशद जीवन में तेरे ही होने से उजियार प्रिये तेरे ही होने से जीवन का उद्धार प्रिये।।

जीवन की आपा धापी में गर थक जाता तेरे ही दामन जिंदगी में छाँव प्रिये।
तेरी ताकत गर्मी का मैं
धड़कन प्राण प्रिये ।
तेरे ही
मिल जाने से है जीवन हो
जीवन उद्धार प्रिये।।

मेरी जीवन की बगियाँ की
कली फूल गुल गुलशन
गुलजार प्रीये ।
खुशियों की खुशबू साकी
सौख मधुशाला मधुपान प्रीये
तेरी ही मकसद मस्ती का
जीवन श्रृंगार प्रिये
तेरे ही होने से हो जीवन उद्धार प्रिये।।

जीवन के लड़ते जंगो में
तेरा ही साथ प्रिये
जीवन की जीत हार में तेरा ही
साथ प्रिये ।
तेरे संग जीना तेरे
संग मरना हो जीवन उद्धार प्रिये।।

जीवन का सत्कार प्रिये
जीवन का उत्साह प्रिये
जीवन का उत्थान प्रिये
जीवन का संबाद प्रिये
हो जीवन का उद्धार प्रिये।।

जीवन का अतीत जीवन का हो
आज प्रिये जीवन की सच्चाई परछाई शुभ सौभाग्य प्रिये।।
हो जीवन का उपकार प्रिये
हो जीवन का उद्धार प्रिये।।

यदि याद काश से परे पास
प्रिये जननी जीवन के साथ
संस्कृति संस्कार प्रिये
हो जीवन का उद्धार प्रिये।।

प्रेयसि जीवन मूल्यों मकसद की
उद्धेश्यों पथ की पुरुषार्थ की प्यार
प्रिये जीवन का सत्य सत्यार्थ सार प्रिये हो जीवन का उद्धार प्रिये।।

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
पसंद तो आ गई तस्वीर, यह आपकी हमको
gurudeenverma198
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
बीज
बीज
Dr.Priya Soni Khare
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Sakshi Tripathi
"सबसे बढ़कर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ दोहे फागुन के...
■ दोहे फागुन के...
*Author प्रणय प्रभात*
तुम रंगदारी से भले ही,
तुम रंगदारी से भले ही,
Dr. Man Mohan Krishna
दोहे
दोहे
दुष्यन्त 'बाबा'
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
एक शख्स
एक शख्स
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
अन्त हुआ सब आ गए, झूठे जग के मीत ।
अन्त हुआ सब आ गए, झूठे जग के मीत ।
sushil sarna
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
Life is proceeding at a fast rate with catalysts making it e
Life is proceeding at a fast rate with catalysts making it e
Sukoon
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
विमला महरिया मौज
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अगर न बने नये रिश्ते ,
अगर न बने नये रिश्ते ,
शेखर सिंह
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
सोच का आईना
सोच का आईना
Dr fauzia Naseem shad
Loading...