Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

प्रश्न

जो लोग नरक और स्वर्ग में विश्वास करते हैं उनके लिए :
इनमें द्विज भी जाते हैं और बहुजन भी। क्या वहां भी जात-धरम का कोटरा है?

इनके ये झगड़े वहां कैसे निपटते होंगे!!!!! अगड़ों की अकड़, ऐंठ, अनर्गल आमद व पिछड़ों के भय, संत्रास, वंचना का विसर्जन क्या वहां ही हो पाता होगा?

Language: Hindi
Tag: लेख
126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" हम तो हारे बैठे हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
* बाँझ न समझो उस अबला को *
* बाँझ न समझो उस अबला को *
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
समझदारी शांति से झलकती हैं, और बेवकूफ़ी अशांति से !!
समझदारी शांति से झलकती हैं, और बेवकूफ़ी अशांति से !!
Lokesh Sharma
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सफर में चाहते खुशियॉं, तो ले सामान कम निकलो(मुक्तक)
सफर में चाहते खुशियॉं, तो ले सामान कम निकलो(मुक्तक)
Ravi Prakash
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
ईष्र्या
ईष्र्या
Sûrëkhâ
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
किराये के मकानों में
किराये के मकानों में
करन ''केसरा''
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
*ऋषि नहीं वैज्ञानिक*
Poonam Matia
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रुत चुनावी आई🙏
रुत चुनावी आई🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
अव्दय
अव्दय
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
#आज_का_शेर-
#आज_का_शेर-
*प्रणय प्रभात*
Loading...