Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

साक्षात्कार

झूठ बोल सकते हो ?
नहीं साहब l

चोरों लुटेरों की मदद कर सकते हो ?
नहीं साहब l

किसी निर्दोष और लाचार को सता सकते हो ?
नहीं साहब l

तो राजनीति में आने का सपना,
पूरी तरह भूल जाओ l
ऐसा करो, कुछ दिन,
दरोगा जी के साथ बिताओ l
बाद में आकर हाल बता जाना,
जब सब कुछ सीख जाओ,
तो राजनीति में आ जाना l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद
मो. 8941912642

Language: Hindi
Tag: कविता
547 Views
You may also like:
आधुनिकता
पीयूष धामी
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
माँ आई
Kavita Chouhan
अब तो ज़ख्मो से रिश्ता पुराना हुआ....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
मौन
अमरेश मिश्र 'सरल'
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
*जल महादेव मैं तुम्हें चढ़ाने आया हूॅं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐💐तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
💐 एक अबोध बालक 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जुल्मतों का दौर
Shekhar Chandra Mitra
"भीमसार"
Dushyant Kumar
*** " विवशता की दहलीज पर , कुसुम कुमारी....!!! "...
VEDANTA PATEL
कैसे कह दूँ
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी हो इंद्रधनुष सी
gurudeenverma198
✍️मी फिनिक्स...!✍️
'अशांत' शेखर
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
दिल से जियो।
Taj Mohammad
मन का घाट
Rashmi Sanjay
'शान उनकी'
Godambari Negi
जीवनामृत
Shyam Sundar Subramanian
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
"वो पीला बल्ब"
Dr Meenu Poonia
Loading...