Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2016 · 1 min read

साक्षात्कार

झूठ बोल सकते हो ?
नहीं साहब l

चोरों लुटेरों की मदद कर सकते हो ?
नहीं साहब l

किसी निर्दोष और लाचार को सता सकते हो ?
नहीं साहब l

तो राजनीति में आने का सपना,
पूरी तरह भूल जाओ l
ऐसा करो, कुछ दिन,
दरोगा जी के साथ बिताओ l
बाद में आकर हाल बता जाना,
जब सब कुछ सीख जाओ,
तो राजनीति में आ जाना l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद
मो. 8941912642

Language: Hindi
964 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2449.पूर्णिका
2449.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
एक बेरोजगार शायर
एक बेरोजगार शायर
Shekhar Chandra Mitra
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Manisha Manjari
विपरीत परिस्थितियों में
विपरीत परिस्थितियों में
Dr fauzia Naseem shad
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
असली पंडित नकली पंडित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"गुज़रते वक़्त के कांधे पे, अपना हाथ रक्खा था।
*Author प्रणय प्रभात*
साथ जब चाहा था
साथ जब चाहा था
Ranjana Verma
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Annu Gurjar
दीवार में दरार
दीवार में दरार
VINOD CHAUHAN
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...