Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 29, 2020 · 1 min read

प्रलयंकारी कोरोना

हाहाकार मचा आज इस धरती पर
भूचाल आया आज इस धरती पर।
इंसान को अपने कद का आभास हुआ
काल की शक्ति का उसे अहसास हुआ।
बलशाली से बलशाली भी बेहाल हुआ
उसका भी अभिमान तार-तार हुआ।
गरीबों का जीवन ओर भी दुश्वार हुआ
राशन-पानी का वो मोहताज हुआ।
शवों का आज यहाँ अंबार लगा हुआ
दो गज़ भी मिलना नामुमकिन-सा हुआ।
राजा-रंक सबका संघार हुआ
सबका जीवन काल हुआ।
पर इन मुश्किल हालातों मे
कुछ लोग लोहा ले रहे है इस महामारी से।
फर्ज़ से ऊपर उनके लिए कुछ नहीं
वो ऐसे वीर है जो कभी थकते नहीं।
लोक-सेवा मे सर्मपित
कर दिया इन्होने खुद को अर्पित।
नत्मस्तक हूँ मै आज इनके आगे
जो इस प्रलयंकारी महामारी से नहीं भागे।

– श्रीयांश गुप्ता

3 Likes · 2 Comments · 221 Views
You may also like:
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalvir Singh
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit kumar
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
चाय की चुस्की
श्री रमण
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
Nurse An Angel
Buddha Prakash
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
Loading...