Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

प्रणय

1)
राधा प्रणय नेह,
बरसे मधुर मेह।
झंकृत ह्रदय तार,
तन-मन पिय श्रृंगार।।
2)
भाये मृदुल प्रीत,
अंतस मदन मीत।
प्रेम भाव विभोर,
डूबे युति किशोर।।
3)
छाई विरह घोर,
विचलित मनस मोर।
श्याम मधुर मुस्कान,
लगत अमिय समान।।
4)
जीवन प्रणय सार
उर कान्हा उतार।
वाणी मधुर गीत,
जीवन लगे प्रीत।
5)
प्रेम प्रणय सुखांत,
विरह हृदय नितांत।
रहता मन अशांत
जलता तन निशांत।।

*युति-युगल

नीलम शर्मा ✍️

🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚

Language: Hindi
1 Like · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
"सुर्खी में आने और
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
शायरी संग्रह
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कविता _ रंग बरसेंगे
कविता _ रंग बरसेंगे
Manu Vashistha
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चुपके से तेरे कान में
चुपके से तेरे कान में
Dr fauzia Naseem shad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Er. Sanjay Shrivastava
Dr अरूण कुमार शास्त्री
Dr अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दूर क्षितिज तक जाना है
दूर क्षितिज तक जाना है
Neerja Sharma
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
Loading...