Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2018 · 1 min read

प्रकृति के दोहे

पेड़ हमारा साथ दें , सूखें लकड़ी अंत।
छाया ये फल फूल दें , स्वार्थी नहीं अनंत।।

हरी – भरी होगी धरा , स्वस्थ रहे इंसान।
अगर प्रदूषित ये हुई , रोगों का है स्थान।।

बैठ प्रकृति की गोद में , माँ – सा मिले दुलार।
सब कुछ देती स्नेह से , जीवन का आधार।।

जीवन पालन हार जो , करे उसे बरबाद।
बैठा काटे डाल वो , कैसे हो आबाद।।

आया सावन झूम के , पेड़ लगा नर – नार।
हरी – भरी धरती बने , स्वच्छ हवा उपहार।।

हरा – भरा सब देखके , बढ़ता जाए ख़ून।
सजता मौसम चक्र तो , रहता कहीं न सून।।

पेड़ लगाके प्यार से , सींचो जब तक चाह।
देख मेहनत रूप को , निकले एकदिन वाह।।

महके उपवन बैठ के , रोगी बने निरोग।
रोता हँस दे शान से , संगत का संयोग।।

सुंदरता को देख के , बढ़े उम्र है ख़ूब।
दुख छूमंतर पाइए , मिलता जब महबूब।।

प्रीत प्रकृति से जोड़िए , छूटे जग का भार।
समय मस्त हो बीतता , स्वर्ग बने संसार।।

(C)-आर.एस. “प्रीतम”

Language: Hindi
3 Likes · 7051 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
????????
????????
शेखर सिंह
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
मफ़उलु फ़ाइलातुन मफ़उलु फ़ाइलातुन 221 2122 221 2122
मफ़उलु फ़ाइलातुन मफ़उलु फ़ाइलातुन 221 2122 221 2122
Neelam Sharma
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
#इधर_सेवा_उधर_मेवा।
*Author प्रणय प्रभात*
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
*चाटुकार*
*चाटुकार*
Dushyant Kumar
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
Phool gufran
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
Er.Navaneet R Shandily
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
Loading...