Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

“प्रकृति की ओर लौटो”

“प्रकृति की ओर लौटो”
प्रकृति कह रही
मेरी आखिरी चेतावनी सुनो
ओ मेरे बेटी-बेटों,
अतीत पर नजर डालकर
फिर मेरी ओर लौटो।

1 Like · 1 Comment · 68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
*बेफिक्री का दौर वह ,कहाँ पिता के बाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो नाकामी के हजार बहाने गिनाते रहे
वो नाकामी के हजार बहाने गिनाते रहे
नूरफातिमा खातून नूरी
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
■ ये हैं ठेकेदार
■ ये हैं ठेकेदार
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अलविदा
अलविदा
Dr fauzia Naseem shad
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
3550.💐 *पूर्णिका* 💐
3550.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
प्रेम निवेश है ❤️
प्रेम निवेश है ❤️
Rohit yadav
यह मेरी इच्छा है
यह मेरी इच्छा है
gurudeenverma198
चुनावी मौसम
चुनावी मौसम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शक
शक
Paras Nath Jha
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...