Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2022 · 1 min read

प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष

व्योम पटल पर निसर्ग चितेरे की नयनाभिराम कलाकृति ,
सतरंगी छटा बिखेरती जीवन को प्रफुल्लित रखने की प्रेरणा संचरित करती,
जीवन के विभिन्न रंगो के समन्वय का संदेश
प्रसारित करती ,
प्रत्येक रंग का जीवन से भावनात्मक संबंध
प्रस्तुत करती ,
पृथ्वी एवं आकाश के आयामों का
अद्भुत संगम प्रदर्शित करती ,
सृष्टि रचयिता की सार्वभौम सत्ता के अर्थ को
स्पष्ट करती ,
प्रकृति की प्रदत्त मनमोहक सुंदर छटा,
दृश्य यह जन-जन को आनंदित करता।

1 Like · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
कवि रमेशराज
कविता ही हो /
कविता ही हो /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"काला पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
♥️
♥️
Vandna thakur
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
gurudeenverma198
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
Rashmi Sanjay
मुहब्बत सचमें ही थी।
मुहब्बत सचमें ही थी।
Taj Mohammad
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
🙅समझ जाइए🙅
🙅समझ जाइए🙅
*Author प्रणय प्रभात*
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
Loading...