Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2023 · 1 min read

“प्यासा कुआँ”

“प्यासा कुआँ”
प्यासा कुआँ, कैसे दे दुआ,
जो हुआ बहुत बुरा हुआ।
जब से मशीनें चीरने लगी
धरती की छाती,
धीरे-धीरे सुखती ही गई
अपार जल-राशि।
देख लेना जल्द ही मिट जाएगा,
वो कागजों में सिमट जाएगा।

8 Likes · 3 Comments · 673 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
जिसप्रकार
जिसप्रकार
Dr.Rashmi Mishra
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
इंजी. संजय श्रीवास्तव
😊
😊
*प्रणय प्रभात*
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
कवि रमेशराज
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
*राम हिंद की गौरव गरिमा, चिर वैभव के गान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हिंद की गौरव गरिमा, चिर वैभव के गान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
..............
..............
शेखर सिंह
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
Loading...