Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2016 · 1 min read

प्यार हो तो ऐसा

दिल हो खुला आसमान जैसा
बातों में हो मधु जैसी मधुरता
“दुष्यंत” का विचार कहता है
सदा अटूट हो रिश्ता-नाता

प्रेम की बहती रहे अनंत सरिता
हँसती-खिलती रहे सदा चेहरा
प्यार हो तो ऐसा हो अमिट निशां
सुरभि अनुपम रंग से जीवन हो रंगा

मन पटल रहे विमल गंगा सी
खुशियों की बसेरा हो सुबह-संध्या
रिश्तों में सदा-सदा ही महक रहे
जैसी कोई फूलों की महकती बगियाँ

मंजु-मंजुल हो जाए जीवन हमारा
सदा सत्य रहे और भी निखरता
परिवार, देश और समाज में
हम रहे या न रहे,रहे एकता अखंड़ता

कवि:- दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Language: Hindi
283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
Shweta Soni
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
जब कभी  मिलने आओगे
जब कभी मिलने आओगे
Dr Manju Saini
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
Seema Verma
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
*धन्य-धन्य हे दयानंद, जग तुमने आर्य बनाया (गीत)*
Ravi Prakash
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
शादी की उम्र नहीं यह इनकी
शादी की उम्र नहीं यह इनकी
gurudeenverma198
अपना-अपना
अपना-अपना "टेलिस्कोप" निकाल कर बैठ जाएं। वर्ष 2047 के गृह-नक
*Author प्रणय प्रभात*
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-257💐
💐प्रेम कौतुक-257💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सितमज़रीफ़ी
सितमज़रीफ़ी
Atul "Krishn"
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बदलाव
बदलाव
Dr fauzia Naseem shad
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
surenderpal vaidya
"गहराई में बसी है"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...