Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2024 · 1 min read

प्यार में बदला नहीं लिया जाता

क्या मैं इतना गंदा काम करूंगा
दुनिया में तुम्हें बदनाम करूंगा
जिसे जान से ज़्यादा प्यार किया
उसी का जीना हराम करूंगा…
(१)
एक आशिक और एक मवाली में
फिर अंतर ही क्या रह जाएगा
अगर रास्ते में आते-जाते
तुम्हें नाहक परेशान करूंगा…
(२)
जब दिल से दिल नहीं मिलता तो
तुमपे मेरा दावा फर्ज़ी है
आख़िर यह तुमने कैसे सोच लिया
तुमसे कभी इंतक़ाम लूंगा…
(३)
तुमने जितना मेरा साथ दिया
उतना ही बहुत है मेरे लिए
भला अब तुम्हें बेवफ़ाई का
क्यों झूठा इल्ज़ाम दूंगा…
(४)
जो तुमने मुझसे मुंह मोड़ लिया
मुझमें ही कोई कमी होगी
चुपचाप तुमसे अब दूर होकर
ख़ुद पर ही एहसान करूंगा…
(५)
कितनी हसरत से बनाया था
यादों का ताजमहल हमने
आज अपने ही हाथों से उसे
हरगिज़ न लहूलुहान करूंगा…
#शायर
#शेखर_चंद्र_मित्रा
#गजल #गीत #गीतकार #प्रेमी
#प्यार #धोखा #बदला #आशिक
#प्रेमिका #सच्चा_प्यार #इंतकाम
#lovequotes #lovers #love
#युवक #नौजवान #लड़का #कवि
#बालीवुड #bollywoodsongs

Language: Hindi
Tag: गीत
85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
Bodhisatva kastooriya
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"प्रकाशित कृति को चर्चा में लाने का एकमात्र माध्यम है- सटीक
*प्रणय प्रभात*
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़  गया मगर
शिगाफ़ तो भरे नहीं, लिहाफ़ चढ़ गया मगर
Shweta Soni
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
बुक समीक्षा
बुक समीक्षा
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
ललकार भारद्वाज
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
"पत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
योग ही स्वस्थ जीवन का योग है
योग ही स्वस्थ जीवन का योग है
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
वक़्त
वक़्त
Dinesh Kumar Gangwar
मां
मां
Dheerja Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
"गमलों में पौधे लगाते हैं,पेड़ नहीं".…. पौधों को हमेशा अतिरि
पूर्वार्थ
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2874.*पूर्णिका*
2874.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...