Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

– प्यार बचाऊं या इज्जत बचाऊं –

– प्यार बचाऊं या इज्जत बचाऊं –
मेरी जाने जिगर अब तु ही बता क्या में बचाऊं,
प्यार बचाऊं या इज्जत में बचाऊं,
मेरी वफा मेरा प्यार में किसे जताऊ,
मेरे दिल में तुम्हारे लिए कितना है प्यार वो दुनिया को कैसे बताऊं ,
मेरे दिल में तेरे लिए है असीम प्यार ,
पर वो में कैसे दुनिया को बताऊं,
प्यार बचाऊं या में इज्जत को बचाऊं,

✍️✍️ भरत गहलोत
जालोर राजस्थान
संपर्क सूत्र -7742016184-

Language: Hindi
53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
कारक पहेलियां
कारक पहेलियां
Neelam Sharma
" जय भारत-जय गणतंत्र ! "
Surya Barman
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
Ravi Prakash
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
VINOD CHAUHAN
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
संघर्ष हमेशा खाली पन में ही अक्सर होता है
संघर्ष हमेशा खाली पन में ही अक्सर होता है
पूर्वार्थ
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
Lakhan Yadav
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
इस जीवन का क्या है,
इस जीवन का क्या है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मित्रतापूर्ण कीजिए,
मित्रतापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"पशु-पक्षियों की बोली"
Dr. Kishan tandon kranti
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
■ कोशिश हास्यास्पद ही नहीं मूर्खतापूर्ण भी।।
■ कोशिश हास्यास्पद ही नहीं मूर्खतापूर्ण भी।।
*प्रणय प्रभात*
वो भी क्या दिन थे क्या रातें थीं।
वो भी क्या दिन थे क्या रातें थीं।
Taj Mohammad
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
शेखर सिंह
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
Aaj kal ke log bhi wafayen kya khoob karte h
Aaj kal ke log bhi wafayen kya khoob karte h
HEBA
बरसात
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
Loading...