Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

….प्यार की सुवास….

प्रेम एक पूर्ण एहसास है। विकल हृदयों कि आस है।।

कोयल की मीठी कूक सी
उदित तिमिर में तड़ित सी
खिली अनछुई गुलाब में
छाई पावन सी सुवास है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥

पत्तों पर ओस की बूंद सी
प्रात: की नवल किरण सी
स्वछंद विचरती तितलियों के
फैली रमणिय उल्लास है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥

दिल के अजब हलचल सी
वीणा के मधुर तान सी
बिखरती स्वर लहरियों में
प्रेम संगीत का उद्गार है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥

हिम के धवल शिखर सी
बहते निर्झर के नीर सी
उर में पुष्पित सुमन के
चाहते शबाब की मिठास है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥

नव उगते कोंपल सी
भादों की पूर्ण चांद सी
अविच्छिन्न रश्मियों में
शीतल मधुर सी प्रकाश है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥

लौटते विहग की कलरव सी
सावन की प्रथम फुहार सी
अदभुत प्रीत की उन्माद में
प्रियतम मिलन की आस है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥

अखंडित नीले अबंर सी
मंदिर में जलते दीप सी
प्रीत की अनलिखी पाती में
सुखे अधरों की प्यास है। प्रेम एक पूर्ण एहसास है॥
*******

Language: Hindi
1 Like · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Awadhesh Kumar Singh
View all
You may also like:
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
चन्द्रयान-3
चन्द्रयान-3
कार्तिक नितिन शर्मा
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
शब्द
शब्द
Sûrëkhâ
बीड़ी की बास
बीड़ी की बास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#कड़े_क़दम
#कड़े_क़दम
*Author प्रणय प्रभात*
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
" नयी दुनियाँ "
DrLakshman Jha Parimal
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
पूर्वार्थ
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
*औषधि (बाल कविता)*
*औषधि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
गुमनाम 'बाबा'
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/176.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
पंकज कुमार कर्ण
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...