Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2016 · 1 min read

प्यार काफ़ी है

मानता हूँ कि इस संसार में कई खामियां हैं
पर प्यार काफी है सब दूर करने के लिये
इन शाखों में कोई लफ्ज़ नहीं हैं
और जो हैं तो सिर्फ़ शिकायतें
आसमान कुछ ज़्यादा ही गहरा रहा है
बोझिल आँखें ताकि कुछ देख ना पायें
वो फूलों पर बिखरी शबनम और
धूप के बिना आधी खिली कलियाँ
वो पहाड़ों की परछाइयाँ और
समंदर की अँधेरी गेहराहियाँ
और ये दिन जो गुज़री बातों पर पर्दा करते हैं
कुछ भी उनके कदम डिगा नहीं सकता
उनकी सांसें ठहरा नहीं सकता
खालीपन अब महसूस नहीं होता
डर अब कुछ बदल नहीं सकता
ये जो प्यार करने वाले हैं
इनकी आँखों में जो ताकत बन उतरता है
वही प्यार काफ़ी है उन्हें एक करने के लिए
–प्रतीक

Language: Hindi
267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्मरण/*टैगोर शिशु निकेतन (टैगोर स्मार्ट प्ले एंड प्रीस्कूल)*
संस्मरण/*टैगोर शिशु निकेतन (टैगोर स्मार्ट प्ले एंड प्रीस्कूल)*
Ravi Prakash
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
निशान
निशान
Saraswati Bajpai
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
Anil "Aadarsh"
रूठते-मनाते,
रूठते-मनाते,
Amber Srivastava
2965.*पूर्णिका*
2965.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-380💐
💐प्रेम कौतुक-380💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
बाँध लू तुम्हें......
बाँध लू तुम्हें......
Dr Manju Saini
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
B S MAURYA
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
सोनू की चतुराई
सोनू की चतुराई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ कौटिश नमन् : गुरु चरण में...!
■ कौटिश नमन् : गुरु चरण में...!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...