Sep 12, 2016 · 1 min read

प्यार करने में क्या बुराई है

———————
जब कभी याद.. तेरी आई है
इक कली दिल की मुस्कुराई है

तेरे माथे को चूम ..सकता हूँ
तेरे दिल…तक मेरी रसाई है

हां मैं तुमसे ही प्यार करता हूँ
प्यार करने में क्या ..बुराई है

आजका दिन बहुत ही उजला है
आपने शब कहाँ ….बिताई है

शाख से फूल उसने ..तोडा है
मोच हाथों में उसके ..आई है

तेरी चौखट पे आज सालिब ने
देख अपनी जबीं …झुकाई है

165 Views
You may also like:
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नई तकदीर
मनोज कर्ण
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
"ईद"
Lohit Tamta
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...