Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2016 · 1 min read

प्यार करने में क्या बुराई है

———————
जब कभी याद.. तेरी आई है
इक कली दिल की मुस्कुराई है

तेरे माथे को चूम ..सकता हूँ
तेरे दिल…तक मेरी रसाई है

हां मैं तुमसे ही प्यार करता हूँ
प्यार करने में क्या ..बुराई है

आजका दिन बहुत ही उजला है
आपने शब कहाँ ….बिताई है

शाख से फूल उसने ..तोडा है
मोच हाथों में उसके ..आई है

तेरी चौखट पे आज सालिब ने
देख अपनी जबीं …झुकाई है

484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"" *मौन अधर* ""
सुनीलानंद महंत
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
इक ऐसे शख़्स को
इक ऐसे शख़्स को
हिमांशु Kulshrestha
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
केवल पंखों से कभी,
केवल पंखों से कभी,
sushil sarna
शेर
शेर
Dr. Kishan tandon kranti
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
gurudeenverma198
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
#एहतियातन...
#एहतियातन...
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
Men are just like books. Many will judge the cover some will
Men are just like books. Many will judge the cover some will
पूर्वार्थ
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
Ravi Prakash
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आशिकी
आशिकी
साहिल
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
भूमि दिवस
भूमि दिवस
SATPAL CHAUHAN
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
Loading...