Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

*पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है (मुक्तक)*

पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है (मुक्तक)
______________________
पॉंच सदी के बाद देश ने, गौरव का क्षण पाया है
पॉंच सदी के बाद अयोध्या, धाम आज मुस्काया है
प्राण-प्रतिष्ठा रामलला की, रामोत्सव यह अद्भुत है
पॉंच सदी के बाद देश ने, राष्ट्र-पर्व को गाया है
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*पढ़ने का साधन बना , मोबाइल का दौर (कुंडलिया)*
*पढ़ने का साधन बना , मोबाइल का दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
*जीवन का आधार है बेटी,
*जीवन का आधार है बेटी,
Shashi kala vyas
विरह की वेदना
विरह की वेदना
surenderpal vaidya
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
देश-विक्रेता
देश-विक्रेता
Shekhar Chandra Mitra
2556.पूर्णिका
2556.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सबसे बड़ा गम है गरीब का
सबसे बड़ा गम है गरीब का
Dr fauzia Naseem shad
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
!! चुनौती !!
!! चुनौती !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
#ग़ज़ब
#ग़ज़ब
*Author प्रणय प्रभात*
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
"एकान्त चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...