Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

पैसे का खेल

हाय पैसा
हाय पैसा
क्या-क्या दिन
दिखाए पैसा
हाय पैसा…
(१)
पैसा कोई
नहीं खाता
लेकिन सबको
खाए पैसा
हाय पैसा…
(२)
पुलिस-मीडिया
लीडर-प्लीडर
सबको कितना
गिराए पैसा
हाय पैसा…
(३)
राम जाने
बेवकूफों को
आख़िर इतना
क्यों भाए पैसा
हाय पैसा…
(४)
खाली हाथ
जाना सबको
किसी के साथ
न जाए पैसा
हाय पैसा…
(५)
क़ातिल से
लूटेरा तक
क्या-क्या हमें
बनाए पैसा
हाय पैसा…
(६)
बेटियों और
बहनों को
कोठे पर
नचाए पैसा
हाय पैसा…
(७)
नन्हे-मुन्ने
बच्चों से
दर-दर भीख
मंगाए पैसा
हाय पैसा…
(८)
धरती का
भगवान वही
जो मेहनत से
कमाए पैसा
हाय पैसा…
(९)
सरकार चाहे
किसी की बने
लेकिन देश
चलाए पैसा
हाय पैसा…
(१०)
उसी का जीवन
सार्थक है
जो नेकी में
लगाए पैसा
हाय पैसा…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#गीत #सियासत #leadership
#जातिवाद #riots #गायक #कवि
#Opposition #politics #bollywood
#paisa #celibrity #media #rich
#पूंजिपति #सेठ #कमीशन #घूस
#भ्रष्टाचार #पैसानामा #अपराध

1 Like · 561 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
नया जमाना आ गया, रही सास कब खास(कुंडलिया)
नया जमाना आ गया, रही सास कब खास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐अज्ञात के प्रति-142💐
💐अज्ञात के प्रति-142💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
ruby kumari
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
"सफाई की चाहत"
*Author प्रणय प्रभात*
नित्य प्रार्थना
नित्य प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
Shweta Soni
जीवन !
जीवन !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
मुझसे  नज़रें  मिलाओगे  क्या ।
मुझसे नज़रें मिलाओगे क्या ।
Shah Alam Hindustani
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...