Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2017 · 1 min read

बचपन और पेड़

???????
पेड़ सा ना कोई हितकारी,
खाते थे फल करते सवारी।
?
माँ की गोद सा हर एक डाली,
सुखमय ममता सी हरियाली।
?
दे दो छुटपन की वो मारामारी,
ना भाती थी बंगला ना गाड़ी।
?
पेड़-सा निस्वार्थ मन की क्यारी,
खिले थे हर चेहरे प्यारी-प्यारी।
?
शुद्ध हवा और अमृत बरसाती,
पेड़-सा दूजा ना कोई उपकारी।
?
इन पर रहते पक्षी ढेर सारी,
इनसे सजते जीवन हमारी।
?
मत काट इसको मार कुल्हाड़ी,
पेड़ हैं हर खुशियों की प्रहरी।
?
लौटा दो वो बचपन हमारी,
एक पेड़ लगाओ हर दुआरी।
????-लक्ष्मी सिंह ?☺

606 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जीवन साथी ओ मेरे यार
जीवन साथी ओ मेरे यार
gurudeenverma198
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
🫡💯मेरी competition शायरी💯🫡
🫡💯मेरी competition शायरी💯🫡
Ms.Ankit Halke jha
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
कवि दीपक बवेजा
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
2518.पूर्णिका
2518.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
■ आज के दोहे...
■ आज के दोहे...
*Author प्रणय प्रभात*
सच्चे रिश्ते वही होते है जहा  साथ खड़े रहने का
सच्चे रिश्ते वही होते है जहा साथ खड़े रहने का
पूर्वार्थ
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
दिल की हरकते दिल ही जाने,
दिल की हरकते दिल ही जाने,
Lakhan Yadav
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
Loading...