Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ

धरती को हमने बचाया,
यदि सभी ने पेड़ लगाया,
अशुद्ध धरा की वायु गैस को,
कार्बन के कण को अवशोषित करके,
हरे भरे पेड़ ने प्राण वायु हमको दिया।

हरे पेड़ को यदि बचाया,
नये–नये पेड़ को पर्यावरण मे लगाया,
ग्लोबल वार्मिंग की समस्याओं से,
इस धरती को सबने बचाया,
भविष्य मानव ने सुरक्षित पाया।

वन को बचाना है जरूर,
नये वन उगाना है भरपूर,
मौसम परिवर्तन निर्भर करता है इसमे,
वर्षा का आगमन होता थल मे,
एक एक पेड़ से बनता है वन।

यही हमारी जिम्मेदारी,
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ,
पेड़ हमारे सच्चे अच्छे मित्र,
निर्भर होता जीवन इन पर भी,
जीवन का अस्तित्व इनसे ही है।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर ।

Language: Hindi
2 Likes · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
🙅चलो रायबरेली🙅
🙅चलो रायबरेली🙅
*प्रणय प्रभात*
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
बड़ी तक़लीफ़ होती है
बड़ी तक़लीफ़ होती है
Davina Amar Thakral
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
gurudeenverma198
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
*भारत माता की महिमा को, जी-भर गाते मोदी जी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
Lokesh Sharma
सोच कर हमने
सोच कर हमने
Dr fauzia Naseem shad
धर्मराज
धर्मराज
Vijay Nagar
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
Keshav kishor Kumar
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
2556.पूर्णिका
2556.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मजदूरों के मसीहा
मजदूरों के मसीहा
नेताम आर सी
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मन मयूर
मन मयूर
नवीन जोशी 'नवल'
लिख / MUSAFIR BAITHA
लिख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज़ादी के दीवाने
आज़ादी के दीवाने
करन ''केसरा''
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
Loading...