Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

पेड़ लगाओ तुम ….

तपती धरती कर रही पुकार,
पेड़ लगाओ तुम अबकी बार ,

आओ पेड़ लगाए हम एक,
यह काम करें मिलकर नेक,
पेड़ो से ही सबका जीवन है,
पेड़ो से तन मन और धन है,

तपती धरती कर रही पुकार,
पेड़ लगाओ तुम अबकी बार ,

कटते जंगल चिंता की बात,
खतरे में है सारी कायनात,
धूल धुंए से प्रदूषण चहुंओर,
गर्मी दे रही सबको झकझोर,

तपती धरती कर रही पुकार,
पेड़ लगाओ तुम अबकी बार ,

पेड़ लगाकर करें देखभाल,
भरे रहेंगे फिर कूप ताल,
हरी भरी होगी अपनी धरा,
सुन लीजिए यह बात जरा,

तपती धरती कर रही पुकार,
पेड़ लगाओ तुम अबकी बार ,

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
नारी सौन्दर्य ने
नारी सौन्दर्य ने
Dr. Kishan tandon kranti
कविता - 'टमाटर की गाथा
कविता - 'टमाटर की गाथा"
Anand Sharma
प्राण- प्रतिष्ठा
प्राण- प्रतिष्ठा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
2765. *पूर्णिका*
2765. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
राम - दीपक नीलपदम्
राम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
Rj Anand Prajapati
🙏😊🙏
🙏😊🙏
Neelam Sharma
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
sudhir kumar
जब जब जिंदगी में  अंधेरे आते हैं,
जब जब जिंदगी में अंधेरे आते हैं,
Dr.S.P. Gautam
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
प्यार
प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
सत्य कुमार प्रेमी
*
*"बीजणा" v/s "बाजणा"* आभूषण
लोककवि पंडित राजेराम संगीताचार्य
तुम रंगदारी से भले ही,
तुम रंगदारी से भले ही,
Dr. Man Mohan Krishna
चश्मा
चश्मा
Awadhesh Singh
महाकाल का आंगन
महाकाल का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
Loading...