Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

पेड़ और चिरैया

आती है चिरैया रोज
बैठती है पेड़ पर
चीं ची चीं करते जाने
क्या क्या कह जाती है ।
सुनता है पेड़ सब
धार उसे गोद में यूँ
जैसे कोई माँ लाल को
सुला गोद में जुड़ाती है।
गाती चिरैया वो
फुदक-फुदक डाल-डाल
और उन्हीं शाखों पर
फिर घोंसले बनाती है।
पेड़ समझ बैठता
चिरैया उसकी अपनी है
तभी तो सब ठाँव छोड़
नित पास मेरे आती है ।
फिर एक दिन चिरैया
ढूंढ लेती कोई नई ठांव
अब हर एक सांझ को
वो वहीं ठहर जाती है ।
पेड़ है स्तब्ध, मौन
कुछ समझ न पा रहा
उसकी वो चिरैया क्यों
अब पास नहीं आती है ?
उसने तो दिया था सब
जो भी उसके पास था
जाने कहाँ चूक हुई
समझ में न आती है ।

Language: Hindi
98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
सत्य कुमार प्रेमी
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
सादगी मशहूर है हमारी,
सादगी मशहूर है हमारी,
Vishal babu (vishu)
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
अकेलापन
अकेलापन
भरत कुमार सोलंकी
We can rock together!!
We can rock together!!
Rachana
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
सुन लिया करो दिल की आवाज को,
सुन लिया करो दिल की आवाज को,
Manisha Wandhare
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
Neeraj Agarwal
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*Author प्रणय प्रभात*
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
बुंदेली दोहे- कीचर (कीचड़)
बुंदेली दोहे- कीचर (कीचड़)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"वो जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
3268.*पूर्णिका*
3268.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
प्रेम दिवानी
प्रेम दिवानी
Pratibha Pandey
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
बुला लो
बुला लो
Dr.Pratibha Prakash
सेंसेक्स छुए नव शिखर,
सेंसेक्स छुए नव शिखर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...