Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2021 · 1 min read

पूर्ण विराग

आधार छंद दोहा

माया ममता मोह मद,सभी सुखों को त्याग ।
वही कृष्ण बनता मनुज, जिसमें पूर्ण विराग।

पग में बंधन मोह का,और सत्य की प्यास,
फँसा हुआ कुरुक्षेत्र में,खेल रहा है फाग ।

मन काला तन श्वेत है,बगुला कपटी अंग,
तन मन दिखता एक सा, उससे अच्छा काग।

जो भी आया है यहाँ, जायेगा सब छोड़,
क्यों फिर मतलब के लिए,देते सबको झाग।

जब तक लिप्सा शेष है,नहीं मिलेगी शांति,
मन में भरा विकार है, जैसे विषधर नाग।

चल नेकी की राह पर,रहो बदी से दूर,
द्वेष-दंभ छल त्याग कर,रखो हृदय बेदाग ।

यह गीता का ज्ञान है,कहता वेद पुराण,
कर्म भाव कुसुमित हृदय,तुष्टि-पुष्टि हर भाग।

माया नगरी है जगत,फसा हुआ हर जीव,
सुखदायी वह जीव है,जहाँ भक्ति की आग ।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3 Likes · 3 Comments · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
Sunanda Chaudhary
प्रेम
प्रेम
Prakash Chandra
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
चित्रगुप्त का जगत भ्रमण....!
चित्रगुप्त का जगत भ्रमण....!
VEDANTA PATEL
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
गमले में पेंड़
गमले में पेंड़
Mohan Pandey
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
कवि दीपक बवेजा
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Raju Gajbhiye
"दो कदम दूर"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
ख्वाहिशों के बैंलेस को
ख्वाहिशों के बैंलेस को
Sunil Maheshwari
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
Shweta Soni
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
Ravi Prakash
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
Loading...