Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2022 · 1 min read

पुस्तक

पुस्तक पढ़ने से हमसबों को
बढ़ता अधिक प्रबल विवेक
सच्चा साथी, सच्चा सहारा
बस अपना पुस्तक महाज्ञान ।

पुस्तक ने ही कैसो कैसो की
सुधारी कईयों की जिदंगियाँ
पुस्तके ही तो होती स्वजन
मां शारदा का तुल्य, स्वरूप ।

पुस्तक पढ़कर ही लोग जाते
अच्छे – अच्छे कितने मुकाम
जिनसे वे जीते अपनी हयात
सुख समृद्धि और खुशहाली से ।

पुस्तक को जस जस ठुकराया
वह तस तस ही पछताता रहा…
सदा करों पुस्तकों का सम्मान
यही हमारा पुस्तक महाज्ञान ।

अमरेश कुमार वर्मा

2 Likes · 1 Comment · 247 Views
You may also like:
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आस
लक्ष्मी सिंह
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुध्द गीत
Buddha Prakash
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पंचशील गीत
Buddha Prakash
पिता की याद
Meenakshi Nagar
हम मुकद्दर पर
Dr fauzia Naseem shad
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...