Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2017 · 1 min read

## पुरानी याद ..डाकिये की ##

ज़माना बीत गया, तो तुमने याद न किया
हम ने तो रोजाना डाकिये से पूछा था
की, कहीं गलती से, लिख दिए हों दो हर्फ़ मेरे नाम
देख जरा , डाकिये कहीं तेरी चिठीयों में हैं क्या ??

वो कहता है, कौन करेगा याद तुमको
क्यूं बेवजह, रोज सताते हो यार, तुम मुझ को
याद करने वाले, कहीं लिखते हैं दो हर्फ़,
वो तो सीधे दिल में ऊपर आते हैं, और क्या !!

सुनकर उस डाकिये की बात, मैं गम में डूब गया
क्या मैं इतना इस काबिल न था, कि उसने याद भी न किया
खुद से पूछने लगा, मैं इक सवाज आज,
क्या मेरे दिल में , जख्मों के सिवा , और कुछ नहीं क्या ??

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
— बेटे की ख़ुशी ही क्यूं —??
— बेटे की ख़ुशी ही क्यूं —??
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
ruby kumari
23/199. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/199. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
*कभी कभी यह भी होता है, साँस न वापस आती (गीत )*
*कभी कभी यह भी होता है, साँस न वापस आती (गीत )*
Ravi Prakash
वो अनुराग अनमोल एहसास
वो अनुराग अनमोल एहसास
Seema gupta,Alwar
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
अपना-अपना
अपना-अपना "टेलिस्कोप" निकाल कर बैठ जाएं। वर्ष 2047 के गृह-नक
*प्रणय प्रभात*
Loading...