Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*

पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)
पुरानी पेंशन हक है मेरा, बुढ़ापे का सहारा है।
अपने भी जब साथ छोड़ दें, यही एक सहारा है।
माननीय लेते कई-कई पेंशन। हमारे लिए क्यों नहीं है पेंशन।
भविष्य की रहती है टेंशन, ना दिखता कोई किनारा है।
पुरानी पेंशन हक है मेरा, बुढ़ापे का सहारा है।।१।।
देश की सेवा हम भी करते, यह मांग हमारी जायज है।
भविष्य हमारा सुरक्षित हो, हर कर्मचारी इस लायक है।
जो पेंशन की बात करेगा, उससे यही इशारा है।
पुरानी पेंशन हक है मेरा, बुढ़ापे का सहारा है।।२।।
हमने दिन रात एक किया है, मेहनत करके आए हैं।
राजनीति एक सेवा है तो, क्यों कई कई पेंशन पाए हैं।
तुमको पेंशन हमको क्यों नहीं, क्यों दोगला सा व्यवहारा है।
पुरानी पेंशन हक है मेरा, बुढ़ापे का सहारा है।।३।।
शासन और प्रशासन सुन लो, हमारा यह अधिकार है।
बहाल करो तुम हमारी पेंशन, लेकर रहेंगे पुरानी पेंशन।
पेंशन दे तो सब खुश हों, क्या नुकसान तुम्हारा है।
पुरानी पेंशन हक है मेरा, बुढ़ापे का सहारा है।।४।।

Language: Hindi
5 Likes · 696 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
प्रतिभाशाली बाल कवयित्री *सुकृति अग्रवाल* को ध्यान लगाते हुए
प्रतिभाशाली बाल कवयित्री *सुकृति अग्रवाल* को ध्यान लगाते हुए
Ravi Prakash
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
Neelam Sharma
भाग्य निर्माता
भाग्य निर्माता
Shashi Mahajan
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
खिला है
खिला है
surenderpal vaidya
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
.तेरी यादें समेट ली हमने
.तेरी यादें समेट ली हमने
Dr fauzia Naseem shad
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
राम लला
राम लला
Satyaveer vaishnav
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आम जन को 80 दिनों का
आम जन को 80 दिनों का "प्रतिबंध-काल" मुबारक हो।
*प्रणय प्रभात*
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अ ज़िन्दगी तू ही बता..!!
अ ज़िन्दगी तू ही बता..!!
Rachana
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
3376⚘ *पूर्णिका* ⚘
3376⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
Loading...