Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

पुण्य धरा भारत माता

** गीतिका **
~~
पुण्य धरा भारत माता का, हम मन से सम्मान करें।
अखिल विश्व के हर कोने में, यशगाथा गुणगान करें।

कष्ट सहन करती है माता, अपनी संतानों के हित।
हमें चाहिए अपनी मां के, पूर्ण सभी अरमान करें।

सर्वप्रथम माता ही हमको, जीवन का संबल देती।
इसी हेतु यह धर्म हमारा, सेवा कर्म महान करें।

खुशियों से खिलता जीवन हो, माता हर्षित हो हर पल।
सभी समय हम मां को अर्पित, फूलों सी मुस्कान करें।

प्रथम ज्ञान माता से मिलता, जीवन है आगे बढ़ता।
विश्व गुरू भारत माता का, नैसर्गिक अधिष्ठान करें।

गंगा यमुना पावन नदियां, अमृत छलकाती अविरल।
पर्वत घाटी और सागर का, ऊंचा मन में स्थान करें।

स्थान मातु का सर्वोपरि है, अटल विश्व में सत्य यही।
बात यही हम गांठ बांध लें, प्राणों का अवदान करें।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
" भींगता बस मैं रहा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
डर से अपराधी नहीं,
डर से अपराधी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
* बचाना चाहिए *
* बचाना चाहिए *
surenderpal vaidya
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
मन
मन
Neelam Sharma
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
हिन्दुस्तान जहाँ से अच्छा है
Dinesh Kumar Gangwar
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
Loading...