Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

*पीड़ा*

पीड़ा

दुख की बातें,
मत करो मुझसे।
शायद मेरा ह्रदय,
याद ना कर सके।
वो पीड़ा-युक्त रातें,
जहां खड़ी ललाट पर।
ढूंढ रही थी,
खुशियों का
तिनक सवेरा।

जहां अश्रु-धारा को,
मिल न रहा था,
कोई किनारा।
रास नहीं आता था,
सावन।
पतझड़ सा था,
अपना बसेरा।

जहां बह रहा था,
अश्रु हर क्षण,
बारिश की,
बूंदों की भांति ।
बादल के समान थी,
पीड़ा ह्रदय में।
जो फट कर दे रहा था,
अनगिनत बूंदे।
वो बूंदे जो,
भरती नहीं सागर।
अपितु कर देती हैं,
हल्का मन को।

दिन में कार्यों के बोझ तले,
बांट देती थी,
मेरा मन।
परंतु रात्रि का बोझ,
लगता था,
सदियों सामान।

मत करो बातें ,
दुख की मुझसे अब।।

बातें करो,
सूर्य की लालिमा की,
जो चमक दे जाए,
मुख पर मेरे।

बातें करो चांद की,
जिस पर दाग तो है।
पर जो है,
सौन्दर्य की मिसाल।

मत करो बातें मुझसे,
दुख की,
असांत्वना की,
पीड़ा की।।

बस बातें करो,
मुझसे खुशियों की,
प्रेम की,
व सांत्वना की।

जिससे भूल सकूं,
वह काली रातें,
और असहनीय पीड़ा।।
डॉ प्रिया।
अयोध्या।

Language: Hindi
1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ब्राह्मण बुराई का पात्र नहीं है
ब्राह्मण बुराई का पात्र नहीं है
शेखर सिंह
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
Anand Kumar
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
अवध में राम
अवध में राम
Anamika Tiwari 'annpurna '
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
2723.*पूर्णिका*
2723.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
#दोषी_संरक्षक
#दोषी_संरक्षक
*प्रणय प्रभात*
Tu chahe to mai muskurau
Tu chahe to mai muskurau
HEBA
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
इंजी. संजय श्रीवास्तव
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
"मिट्टी की उल्फत में"
Dr. Kishan tandon kranti
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
देखें हम भी उस सूरत को
देखें हम भी उस सूरत को
gurudeenverma198
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
शायद आकर चले गए तुम
शायद आकर चले गए तुम
Ajay Kumar Vimal
अनवरत ये बेचैनी
अनवरत ये बेचैनी
Shweta Soni
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
Loading...