Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2021 · 1 min read

पिता

आधार छंद-विधाता
1222 1222 ,1222 1222
पिता के रूप में सब देवता घर में तुम्हारे हैं ।
मनुज पहचान लो इनको प्रभु भू पर पधारे हैं।

शिकन को देख माथे पर रहीं चिंता जिन्हें तेरी,
खुशी से भर दिया जीवन हँसी देकर सवारें हैं।

जले खुद धूप में हरदम घना छाया बने तेरा।,
लुटा कर के स्वयं को जो सभी सपने सकारें हैं।

दबे थे बोझ से इतना स्वयं की त्याग दी इच्छा ,
सदा संतान के खातिर कठिन जीवन गुजारे है।

हरे विपदा सदा तेरी कवच बन कर रहे तेरा,
करो आदर मनुज इनका खुशी के ये पिटारे हैं।

भरी उम्मीद आँखों में भरा विश्वास जो दिल में,
मिला आशीष जब इनका कदम में चाँद तारे हैं ।

बुढ़ापा ने किया जड़जड़ कमर को तोड़ डाला है,
कभी तेरा सहारा थे अभी तेरे सहारे हैं।

करो सत्कार सेवा तुम बनो इनका सहारा तुम,
करो अपमान मत इनका तुम्हें जब भी पुकारे हैं।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

8 Likes · 4 Comments · 363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
गरीब हैं लापरवाह नहीं
गरीब हैं लापरवाह नहीं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#लघुकथा / #सम्मान
#लघुकथा / #सम्मान
*Author प्रणय प्रभात*
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
💐प्रेम कौतुक-502💐
💐प्रेम कौतुक-502💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
"सम्भावना"
Dr. Kishan tandon kranti
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
तुम जो हमको छोड़ चले,
तुम जो हमको छोड़ चले,
कृष्णकांत गुर्जर
मुहब्बत सचमें ही थी।
मुहब्बत सचमें ही थी।
Taj Mohammad
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
2653.पूर्णिका
2653.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
DrLakshman Jha Parimal
हिंदी शायरी संग्रह
हिंदी शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
पूर्वार्थ
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
Phool gufran
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
VINOD CHAUHAN
Loading...