Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

पिता

हर मुश्किल में वे चट्टान बन कर अड़े है।
हर जरूरत के समय मेरे पास ही खड़े हैं।।
दुनिया की हकीकतों से रूबरू कराने वाले हैं।
सही गलत की मुझको पहचान कराने वाले हैं।।
दिखने में बहुत सख्त मगर नर्म दिल इंसान है।
दुनिया की नजरों में पिता पर मेरे लिए भगवान हैं।।
घोड़ा बनकर पहली सवारी उन्होंने ही करवाई थी।
कंधे पे बिठा के रामलीला भी उन्होंने ही दिखाई थी।।
आपके रौबीले चेहरे पर पूरे परिवार को फिक्र होता हैं।
डांट डपट का भयंकर रूह तक असर होता हैं।।
उंगली थाम के चलने में जो सुकून मिलता हैं।
गाँव देहात के अनेक किस्सों में जनून मिलता है।।
मेहनत की एक एक पाई की कीमत को जानते हैं।
हर रिश्ते की मर्यादा अच्छी तरह से पहचानते हैं।।
एक गुरु मंत्र उनका मेरे कानों रोजाना गूँजता हैं।
इसलिए मेरा मन हर पल आपको बार बार प्रणाम करता है।।
नाकामियों को पीछे छोड़ आगे ही बढ़ते ही जाते हैं।
उनकी शान में चाहे कुछ भी लिखू कम ही लगता है।।
बेटा चाहे कुछ भी बन जाये पर पिता से छोटा रहता है।
जिस सम्मान के वो हकदार है उन्हें वही सम्मान दे।।

शंकर आंजणा नवापुरा
बागोड़ा जालोर-2343032

7 Likes · 6 Comments · 697 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
पत्थर
पत्थर
Shyam Sundar Subramanian
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*ऊपर से जो दीख रहा है, कब उसमें सच्चाई है (हिंदी गजल)*
*ऊपर से जो दीख रहा है, कब उसमें सच्चाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
Sapna Arora
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
"कुछ लोगों के पाश
*Author प्रणय प्रभात*
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
मित्रता दिवस पर एक खत दोस्तो के नाम
Ram Krishan Rastogi
अब किसपे श्रृंगार करूँ
अब किसपे श्रृंगार करूँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
सच का सूरज
सच का सूरज
Shekhar Chandra Mitra
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
surenderpal vaidya
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
एक छोटा सा दर्द भी व्यक्ति के जीवन को रद्द कर सकता है एक साध
Rj Anand Prajapati
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
💐अज्ञात के प्रति-39💐
💐अज्ञात के प्रति-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
Loading...