Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

पिता

पिता से ही है प्रकट पहचान मेरी इस धरा पर,
शीश पर प्रत्यक्ष जब तक उस गगन का हाथ है !
है नहीं चिंता किसी भी मोड़ पर कैसे चलूँगा,
शक्ति सारे विश्व की लगता कि मेरे साथ है ।।
जिस भरोसे दौड़ लेते राह में जलती चिता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

पिता वह साक्षात् ईश्वर जो न हारे अंत तक भी,
आंधियां प्रतिकूल कितनी, जीत लें जिसके सहारे ।
कब थका है, कब रुका है राह की उलझन से डरकर ?
झोंक दे जो शक्ति सारी, त्याग दे सुख-चैन सारे ।।
है कहाँ साहस कलम का जो लिखे उस देवता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

सृष्टि के निर्माण की अभिव्यक्ति भी तो वह पिता है,
पिता हैं परिवार का वटवृक्ष सा जो छाँव देता ।
द्वार ऐसा हर समस्या की जहाँ निष्पत्ति होती,
धैर्य, अनुशासन, मनुजता का सदा जो भाव देता ।।
चल रहे सीना फुला, संदेह कब अधिकारिता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

है नहीं करता प्रकट वह, भाव निज मन के सहज ही,
झांक कर देखो हृदय में अप्रदर्शित स्नेह-सागर ।
छोड़कर जिनको पिता, सुरलोक में जाकर बसे हैं,
मूल्य पूछो तो पिता का उन सभी से पास आ कर ।।
है नमन उस अनुग्रह को, गर्व हो उस श्रेष्ठता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

– नवीन जोशी ‘नवल’
बुराड़ी, दिल्ली

(स्वरचित एवं मौलिक)

7 Likes · 12 Comments · 612 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नवीन जोशी 'नवल'
View all
You may also like:
मेरी आत्मा ईश्वर है
मेरी आत्मा ईश्वर है
Ms.Ankit Halke jha
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सावन
सावन
Ambika Garg *लाड़ो*
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
कहते हो इश्क़ में कुछ पाया नहीं।
Manoj Mahato
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
👌आत्म गौरव👌
👌आत्म गौरव👌
*Author प्रणय प्रभात*
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
मांओं को
मांओं को
Shweta Soni
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
ए जिंदगी ,,
ए जिंदगी ,,
श्याम सिंह बिष्ट
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
2793. *पूर्णिका*
2793. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधमी अंधकार ....
अधमी अंधकार ....
sushil sarna
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
"गॉंव का समाजशास्त्र"
Dr. Kishan tandon kranti
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
Loading...