Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

पिता

पिता से ही है प्रकट पहचान मेरी इस धरा पर,
शीश पर प्रत्यक्ष जब तक उस गगन का हाथ है !
है नहीं चिंता किसी भी मोड़ पर कैसे चलूँगा,
शक्ति सारे विश्व की लगता कि मेरे साथ है ।।
जिस भरोसे दौड़ लेते राह में जलती चिता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

पिता वह साक्षात् ईश्वर जो न हारे अंत तक भी,
आंधियां प्रतिकूल कितनी, जीत लें जिसके सहारे ।
कब थका है, कब रुका है राह की उलझन से डरकर ?
झोंक दे जो शक्ति सारी, त्याग दे सुख-चैन सारे ।।
है कहाँ साहस कलम का जो लिखे उस देवता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

सृष्टि के निर्माण की अभिव्यक्ति भी तो वह पिता है,
पिता हैं परिवार का वटवृक्ष सा जो छाँव देता ।
द्वार ऐसा हर समस्या की जहाँ निष्पत्ति होती,
धैर्य, अनुशासन, मनुजता का सदा जो भाव देता ।।
चल रहे सीना फुला, संदेह कब अधिकारिता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

है नहीं करता प्रकट वह, भाव निज मन के सहज ही,
झांक कर देखो हृदय में अप्रदर्शित स्नेह-सागर ।
छोड़कर जिनको पिता, सुरलोक में जाकर बसे हैं,
मूल्य पूछो तो पिता का उन सभी से पास आ कर ।।
है नमन उस अनुग्रह को, गर्व हो उस श्रेष्ठता पर।
क्या लिखेगी कलम मेरी उस पिता पर ?

– नवीन जोशी ‘नवल’
बुराड़ी, दिल्ली

(स्वरचित एवं मौलिक)

Language: Hindi
Tag: कविता
6 Likes · 12 Comments · 305 Views
You may also like:
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प़थम स्वतंत्रता संग्राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce...
Pravesh Shinde
बाधाओं से लड़ना होगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
कहानी,✍️✍️
Ray's Gupta
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
पितृपक्ष_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रेम के रिश्ते
Rashmi Sanjay
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
केवल मृत्यु ही निश्चित है / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
फिर क्युं कहते हैं लोग
Seema 'Tu hai na'
- में अनाथ हु -
bharat gehlot
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
धन तेरस
जगदीश लववंशी
अछूत की शिकायत
Shekhar Chandra Mitra
*साला - साली (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
मुझको सन्तुष्टि इसी में है
gurudeenverma198
बदरी
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
Loading...