Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2022 · 1 min read

पिता बना हूं।

पिता बना हूं तो पिता का दर्द महसूस हुआ।
वरना अभी तक तो पुत्र बनकर ही जीवन जिया।।1।।

बड़ी जिम्मेदारियां होती है पिता के कंधों पे।
मेरे पिताजी ने प्रत्येक ज़िम्मेदारी को पूर्ण किया।।2।।

तन,मन,धन से पिता परिवार को बनाता है।
मेरे पिताजी ने प्रत्येक ह्रदय को खुशियों से भरा।।3।।

पिता की कोमल कठोरता कभी ना समझा।
अब पता चला जब मैं स्वयं यूं पुत्र का पिता बना।।3।।

धरा पर पुत्र हित में पिता जैसा रिश्ता नही।
पिता सदैव प्रत्येक स्थिति में भगवान जैसा बना।।4।।

अभी से मैने जाने कितने पुत्र स्वप्न संजोए है।
मेरे पिता ने प्रत्येक स्वप्न को उड़ने का पंख दिया।।5।।

मेरी खातिर पिता ने जानें कितने दंश सहे।
ऐसे पिता बनके पिता ने मेरा जीवन धन्य किया।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

5 Likes · 6 Comments · 309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पत्थर
पत्थर
manjula chauhan
*****राम नाम*****
*****राम नाम*****
Kavita Chouhan
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
तुझे भूल जो मैं जाऊं
तुझे भूल जो मैं जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
"अटपटा प्रावधान"
पंकज कुमार कर्ण
फूल खुशबू देते है _
फूल खुशबू देते है _
Rajesh vyas
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
!! नफरत सी है मुझे !!
!! नफरत सी है मुझे !!
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
💐प्रेम कौतुक-162💐
💐प्रेम कौतुक-162💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
*अनार*
*अनार*
Ravi Prakash
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
Loading...