Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पिता – नीम की छाँव सा – डी के निवातिया

पिता एक विश्वास
***
घर आँगन में नीम की छाँव सा,
जीवन सागर में बहती नाव सा,
किसान बन घर परिवार सींचता,
इंजन बन घर की गाडी खींचता,
बच्चो का जीवन गढ़ता है ऐसे,
कुम्हार मिट्टी के बर्तन को जैसे,
कर्म के हवन कुंड में खुद तपता,
परिवार कुशलता के मंत्र जपता,
जिम्मेदारियों के रथ का सारथी,
निभाता है बनकर इक महारथी,
पिता, पुत्र, पति के फर्ज निभाता,
बाप बनकर बेटे का कर्ज चुकाता,
विवशता को अपनी ढाल बनाता,
टूटकर भी खुद को टूटा न दर्शाता,
जो परिवार का कुशल शिल्पकार,
है अविस्मरणीय जिसके उपकार,
वो पिता एक उम्मीद, एक आस,
एक हिम्मत और एक विश्वास !!
!
स्वरचित मौलिक
नाम : डी के निवातिया
स्थान : मेरठ, उत्तर प्रदेश, (भारत)

28 Likes · 50 Comments · 418 Views
You may also like:
प्यार अंधा होता है
Anamika Singh
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
चाय की चुस्की
Buddha Prakash
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
*रठौंडा मन्दिर यात्रा*
Ravi Prakash
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️दरिया और समंदर✍️
'अशांत' शेखर
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
अधूरा यज्ञ (नाटक)*
Ravi Prakash
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
'कृषि' (हरिहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
*आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️कोई इंसान आया..✍️
'अशांत' शेखर
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
सिपाही
Buddha Prakash
“ जालंधर केंट टू अमृतसर ” ( यात्रा संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
संस्कार
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
मेरी छवि
Anamika Singh
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...